जूलियट सी , हीर सी , लैला के जैसी प्रेमिका ।।

इस ज़माने में कहाँ पाओगे ऎसी प्रेमिका ।।1।।

क़समोंं वादों पर यक़ीं यूँ ही नहीं करती कभी ,

है चतुर, चालाक, ज्ञानी आजकल की प्रेमिका ।।2।।

बच नहीं सकता है अब आशिक़ बहाने से किसी ,

जिससे करती प्यार करती उससे शादी प्रेमिका ।।3।।

बेवफ़ा आशिक़ को अब माफ़ी न देती दोस्तों ,

अब सबक सिखला के बदला खूब लेती प्रेमिका ।।4।।

एक आशिक़ छोड़ दे तो ख़ुदकुशी करती नहीं ,

दूसरे से इश्क़ को तैयार रहती प्रेमिका ।।5।।

पहले आशिक़ कि नज़र से देखती थी ये जहाँ ,

अब तो चील और गिद्ध जैसी आँख रखती प्रेमिका ।।6।।

इश्क़ में जिस्मों के रिश्तों को भी देती अहमियत ,

अब न दक़्यानूस , शर्मीली न छुई-मुई प्रेमिका ।।7।।

अब तो मुँँह बोले बहन-भाई पे शक़ लाज़िम हुआ ,

कितने ही तफ़्तीश में निकले हैं प्रेमी प्रेमिका ।।8।।

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *