मुस्कुराने का अदद फ़न चाहिए ।।

ग़म छिपाने एक चिलमन चाहिए ।।

दिल अँधेरों में भले डूबा रहे ,

चेहरा रौशन सिर्फ़ रौशन चाहिए ।।

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *