मेरी सूरत पे ही जाकर न तुम अटक जाना ॥ 

मेरी सीरत मेरी फ़ितरत भी ग़ौर फ़रमाना ॥ 

इश्क़ के वास्ते इक नौजवाँ में जो लाजिम ,

ग़र न मुझमें हों तो बेशक़ न करना ठुकराना ॥ 

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *