हम जो होते हैं वो दुनिया को कब दिखाते हैं ॥ 

मिर्च होते हैं मगर गुड़ शहद बताते हैं ॥ 

क्योंकि कब झाँकती है रूह किसी की दुनिया ,

इसलिए जिस्म ही भरपूर सब सजाते हैं ॥ 

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *