शबनम चाट-चाट के अपनी प्यास बुझाता हूँ ॥

तेज़ धूप में अपनी रोटी दाल पकाता हूँ ॥

ऊँट के मुंह में जीरे जितनी अल्प कमाई में ,

ज़िंदा रहने की कोशिश में मर-मर जाता हूँ ॥ 

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *