दिन से काली रात होता जा रहा हूँ ।।

जीत  से  मैं  मात होता जा रहा हूँ ।।1।।

जिनके साए से भी बचना है उन्हींं के ,

हर घड़ी बस साथ होता जा रहा हूँ ।।2।।

जिनकी उँगली भी न था कल आज उनका ,

सीधे दाँया हाथ होता जा रहा हूँ ।।3।।

हुस्न के इक रेग्ज़िस्ताँ पे मैं बदरू ,

धूप में बरसात होता जा रहा हूँ ।।4।।

उनका दूल्हा बन न पाया हूँ लिहाज़ा ,

उनकी अब बारात होता जा रहा हूँ ।।5।।

जो समझता ही नहीं शीरीं ज़ुबाँ को ,

भूत को , इक लात होता जा रहा हूँ ।।6।।

गहरी ख़ामोशी उदासी को फिसल-गिर ,

इक हँसी की बात होता जा रहा हूँ ।।7।।

 -डॉ. हीरालाल प्रजापति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *