ज़्यादा न  दूर से बड़े करीब से मिलें ॥

बिलकुल नहीं अमीर से गरीब से मिलें ॥

रने से मेहनतें तमाम कोशिशों से कब ,

कुछ कामयाबियाँ फ़क़त नसीब से मिलें ॥ 

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *