बस इक ख़्वाब मुझ सँग बुनो कहते कहते ॥

मोहब्बत को मुझको चुनो कहते कहते ॥

न फिर भी तवज्जोह पायी उधर से ,

जिन्हेंं मर गया मैं सुनो कहते कहते ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *