दूर करने की जगह पास कर लिया तुमने !!

मुझसे आम आदमी को ख़ास कर लिया तुमने !! 

मुझको आठ-आठ आँसू गिनके रुलाने वाले ,

आज क्यों दर्द का एहसास कर लिया तुमने ?

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *