इक बार बसर उनके साथ रात हमने की ।। 

सब रात जाग जाग फ़क़त बात हमने की ।। 

क़ाबू में दिल को कैसे रखा कुछ न पूछिए ,

बस दूर दूर रहके मुलाक़ात हमने की ।।

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *