आँखों को सुकूँ दे जो वही दीद , दीद है ।।

चंदन का बुरादा भी दिखे वर्ना लीद है ।।

जिस ईद मिले ग़म है वो त्योहार मोहर्रम ,

जिस क़त्ल की रात आए ख़ुशी अपनी ईद है ।।

-डॉ. हीरालाल प्रजापति  

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *