( चित्र Google Search से साभार )

क्यों बचपन में ही श्रृंगारिक प्रेमालिप्त हैं कुछ बच्चे ?

ऐसी-वैसी बातों से अंदर तक सिक्त हैं कुछ बच्चे ?

क्या माँ की ममता बापू का स्नेह उन्हें कम पड़ता है ?

जो मित्रों-सखियों की चाहत को विक्षिप्त हैं कुछ बच्चे ?

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *