कर लूँगा हँस के तै मैं हर तरह के रास्ते ।।

मैं सोचता था जबकि तुम थे मेरे वास्ते ।।

अब जब अज़ीज़ो ख़ास रहा मैं न तुम्हारा ,

दो डग भी मुझको दो हज़ार मील भासते ।।

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *