जो घिनौना है उसे दूध धुला कैसे कहूँ ?

वो बुरा है तो भला उसको भला कैसे कहूँ ?

जो ख़ताओं पे ख़ता करता दग़ा खाता फिरे ,

ऐसे अहमक़ को गर्म दूध जला कैसे कहूँ ?

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *