बारह ,चौदह ,सोलह कितने , साल का हो लुच्चा समझो ।।

लूटे जो लड़की की अस्मत , उसको मत बच्चा समझो ।।

उसको पकड़ के सरेआम कर , दो औरत के नाक़ाबिल ,

इसको कोई पाप न बोलो , पुण्य कहो अच्छा समझो ।।

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *