भूखे को मत दिखाकर खा तू क़बाब को ।।

 मैकश हूँ सामने मत ला तू शराब को ।।

मत इम्तहाँ ले मेरे सब्र-ओ-क़रार का ,

पर्दे में रख छुपाकर अपने शबाब को ।।

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *