है अभी भी अपना पर , अपना नहीं लगता हमें ।।

जाने क्यों अपना ही घर , अपना नहीं लगता हमें ।।

जिसमें हम पैदा हुए , सारी गुज़ारी ज़िंदगी ,

अब वही प्यारा नगर , अपना नहीं लगता हमें ।।

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *