किसने बख़्शा है किसने छोड़ा है ?

हर किसी ने तो दिल को तोड़ा है ।।1।।

सिर्फ़ दुश्मन ही कब तरक़्क़ी में ,

दोस्त भी आज एक रोड़ा है ।।2।।

हाँ ग़रज़ के लिए ही आपस में ,

ख़ुद को लोगों ने सबसे जोड़ा है ।।3।।

दूसरों के लिए जो है घोंघा ,

ख़ुद की ख़ातिर अरब का घोड़ा है ।।4।।

सब हिफ़ाज़त को अपनी ही मरते ,

मुल्क़ रख फ़ौजियों पे छोड़ा है ।।5।।

बाद शादी के बाप-माँ से क्यों ,

प्यार बेटों में बचता थोड़ा है ?6।।

एक मुद्दत से है भरा बैठा ,

छेड़ मत पक चुका वो फोड़ा है ।।7।।

हाल गन्ने का वो करेगा क्या ,

जिसने बालू को भी निचोड़ा है ?8।।

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *