बस एक बार दिल में तेरे पालूँ जगह मैं ।।

ये शहर क्या है दुनिया कर दिखा दूँ फ़तह मैं ।।

बन जाऊँ तेरा जिन्न तुझको आक़ा बना लूँ ,

हर हुक़्म फिर बजाऊँ ख़ुश हो ठीक तरह मैं ।।

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *