अपनी चुन-चुन के हर इक पूरी रज़ा करते हैं ।।

काम कुछ ऐसे किये हैं कि मज़ा करते हैं ।।

सख़्त बचते हैं बुराई से बुरे लोगों से ,

जो भी करते हैं बहुत ठोक-बजा करते हैं ।।

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *