बाहर हैं जो जेलों में गिरफ़्तार नहीं हैं ।।

मतलब न ये इसका वो गुनहगार नहीं हैं ।।

हो जिनके सके ज़ुर्म अदालत में न साबित ,

क्या ऐसे ख़ताकार ख़ताकार नहीं हैं ?

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *