मेरी जो मोहब्बत का है क़िस्सा यों समझ ले ॥ 

होते ही पैदा मर गया बच्चा यों समझ ले ॥ 

करता ही रहा इश्क़ पे मैं इश्क़ मुसल्सल ,

खाता ही रहा पै ब पै धक्का यों समझ ले ॥ 

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *