निहायत भौंडी सूरत वाला सुंदरलाल लिखता है ॥

हमेशा हारने वाला सिकंदरलाल लिखता है ॥

यहाँ की रीत है शैताँ फ़िरिश्ता ख़ुद को कहते हैं ,

भिखारी अपना असली नाम गब्बरलाल लिखता है ॥

( गब्बर = बहुमूल्य , घमंडी , धनी )

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *