आज कच्चे ही सभी पकने लगे हैं ॥

इसलिए जल्दी ही सब थकने लगे हैं ॥

अपने छोटे छोटे कामों को भी छोटे-

छोटे भी नौकर बड़े रखने लगे हैं ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *