चीख-चिल्लाहट है कर्कश कानफोड़ू शोर है ॥

इस नगर में एक भागमभाग चारों ओर है ॥

सुख की सारी वस्तुएँ घर-घर सहज उपलब्ध हैं ,

किन्तु जिसको देखिये चिंता में रत घनघोर है ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *