इक बार यकायक मज़ाक अजीब कर दिया ॥

किस्मत ने यों अमीर को गरीब कर दिया ॥

हासिल था कोहेनूर के सब दिल पे जिसका हक़ ,

इक ताज को उसका अदू , रक़ीब कर दिया ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *