रात दिन कर तू वफ़ा सिर्फ़ वफ़ा की बातें ॥

मत डरा यार कर फ़रेबो दग़ा की बातें ॥

हो गई मुझसे जो गफ़्लत-ए-इश्क़ कर मुझसे ,

छोड़ ग़म दर्द की बस लुत्फ़ो-मज़ा की बातें ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *