ना हाथ जोड़कर न लिपटकर चला गया ॥

यों ही मिले बग़ैर पलटकर चला गया ॥

वादा किया था जिसने तमाम उम्र साथ का ,

दो दिन में अपनी बात से नट कर चला गया ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *