( चित्र google search से साभार )

कुछ बस अपने दीन तो कुछ ईमान बदलते हैं ॥

कुछ तो मालिक कुछ अपने भगवान बदलते हैं ॥

पल में लाल हरे पल भर में अपने मतलब को ,

अपना रँग गिरगिट जैसा इंसान बदलते हैं ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *