( चित्र google search से साभार )

भोजन का भूख में भी जो उपयोग ना हुआ ॥

क्या लाभ कि उपलब्धि का उपभोग ना हुआ ॥

लादे फिरे ज्यों पीठ पुस्तकों की बोरियाँ ,

फिर भी रहे गधा गधा ही लोग ना हुआ ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *