क्या सितम-ज़ुल्म-जफ़ा करना बुरी बात नहीं ?

क्या मोहब्बत में दग़ा करना बुरी बात नहीं ?

तो जो ऐसा हो सितमगर-ओ-दग़ाबाज़ उससे ,

अपना वादा-ओ-वफ़ा करना बुरी बात नहीं ?

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *