न ख़्वाबों में हक़ीक़त में मुलाकातें करेंगे पर…..

मेरे सँग दिन-दुपहरी-शाम और रातें करेंगे पर…..

किया करते थे जैसे रूठने से पहले बढ़-बढ़ कर ,

मुझे लगता था वो इक रोज़ ख़ुद बातें करेंगे पर…..

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *