क़ाफ़ी जद्दोजहद के मुश्किलों के बाद मिला ।।

तीखी कड़वाहटों के बाद मीठा स्वाद मिला ।।

अपनी तक़्दीर कि लाज़िम जो जब भी हमको रहा ,

उससे कम ही हमेशा पाया कब ज़ियाद मिला ?

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *