वो चमकदार आजकल क्यों लुप ही रहता है ?

सामने क्यों न आए सबसे छुप ही रहता है ?

बात-बेबात-बात करने वाला आख़िर क्यों ,

अब तो बकबक की जगह पर भी चुप ही रहता है ?

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *