वो चमकदार वो रोशन क्यों जुप ही रहता है ?

सामने क्यों नहीं आता है लुप ही रहता है ?

बात-बेबात-बात करना जिसकी आदत थी ,

क्या हुआ हादसा कि अब वो चुप ही रहता है ?

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *