सात रंग तज रंग फ़क़त डाला काला ।।

जिसमें आटा कम भरपूर नमक डाला ।।

वो मेरा कैसे अपना हो सकता है ,

मेरी ऐसी क़िस्मत को लिखने वाला ?

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

This article has 2 comments

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *