कहता है कौन मेरी शिक़ायत न करो तुम ?

जी भर के पीठ पीछे ख़िलाफ़त न करो तुम ?

कल ख़ुद करोगे खुल के तरफ़दारियाँ तुम ही ,

बेशक़ ही आज मेरी वक़ालत न करो तुम ।।

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *