( चित्र Google Search से साभार )

यदि कोई उपवन न हो झुरमुट हो झाड़ी हो ॥

राजसी मदिरा न हो सामान्य ताड़ी हो ॥

लक्ष्य तक पहुँचा सके जो हमको आवश्यक ,

अश्व रथ हो या वो छकड़ा बैल गाड़ी हो ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *