रोती-सिसकती क़हक़हों भरी हँसी लगे ॥

बूढ़ी मरी-मरी जवान ज़िंदगी लगे ॥

इक वहम दिल-दिमाग़ पे तारी है आजकल ,

बिलकुल लटकते साँप सी रस्सी पड़ी लगे ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *