रहूँ प्यासा गुलू में चाहे क़तरा आब ना जाये ।।

तुम्हारे इश्क़ में जलने की मेरी ताब ना जाये ।।

नहीं क़ाबिल मैं हरगिज़ भी तुम्हारे पर दुआ इतनी ,

तुम्हें पाने का आँखों से कभी भी ख़्वाब ना जाये ।।

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *