ताक़त के साथ-साथ में रखते हों शरफ़ भी ।।

क्या इस जहाँ में अब भी इस क़दर हैं हिम्मती ?

गर जानता हो कोई तो फ़ौरन बताये मैं –

महलों में उनको ढूँढूँ या खोजूँ कुटी-कुटी ?

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *