कह पाओ रू-ब-रू ना , नाजुक-ओ-नरम दिल के ।।

पढ़ संगदिल भी जिनको , हो जाएँ रहम दिल के ।।

भेज ऐसे डाकिये से , पैग़ामे महब्बत वो ,

क़िर्तास पे वो कर सब , जज़्बात रक़म दिल के ।।

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *