ले साथ में अपने वो सभी तेज़ हवाएँ
 ।।

सूरज के हैं स्वजन जो चिराग़ों को बुझाएँ ।।1।।

ख़्वाबीदा जो इंसान हो उठ जाए वो ख़ुद ही ,

खोल आँखें जो सोया है उसे कैसे जगाएँ ?2।।

मंदिर का हर इक शख़्स कलश बनने खड़ा है ,

बुनियाद के पत्थर के लिए किसको मनाएँ ?3।।

कितने भी किसी प्यारे की हो लाश तो घर में ,

रखते न उसे दफ़्न करें सब या जलाएँ ।।4।।

मिलती हो भले मुफ़्त कहीं क़ीमती दारू ,

समझें जो हराम इसको कभी मुँह न लगाएँ ।।5।।

ख़ूब आज़माया अपना असर लाके रही हैं ,

अपनों की बद्दुआएँ औ’ ग़ैरों की दुआएँ ।।6।।

माँ-बाप को भी सिज्दा वो करने झिझकते ,

मतलब के लिए ग़ैरों के तलवे भी दबाएँ ।।7।।

मुझको न गुनहगारों की आज़ादियाँ अखरें ,

दिल रोता है जब झेलते मासूम सज़ाएँ ।।8।।

बेकार हैं सूरज को मशालों के दिखावे ,

अच्छा हो अंधेरों में कहीं दीप जलाएँ ।।9।।

सुनते हैं ख़ुदा का तो वज़ूद आप न मानें ,

फिर किससे किया करते हैं चुपचाप दुआएँ ?10।।

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *