ऐसा करूँ धमाल-धूम सालगिरह पे ॥

ऐसा दिखाऊँ रक़्स झूम सालगिरह पे ॥

इतना हूँ ख़ुश कि आज तो जी है अदू के भी ,

जाकर के लिपट जाऊँ चूम सालगिरह पे ॥

( अदू = शत्रु , दुश्मन )

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *