क़ुदरत ने तो बख़्शा था हुस्न ख़ूब-लाजवाब ॥

जंगल घने थे झीलें लबालब नदी पुरआब ॥  

किसने ज़मीन उजाड़ी है पेड़ों को काट-काट ?

हम ही ने सूरत इसकी बिगाड़ी है की ख़राब ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *