पीते हैं वो तो कहते हैं करते हैं ग़म ग़लत ॥

हम छू भी लें तो बोलेंगे करते हैं हम ग़लत ॥

हालात उनसे इस क़दर ख़राब हैं अपने ,

हमको तो ये लगता है कि चलता है दम ग़लत ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *