यों बुलायी अपने हाथों सबकी शामत ॥

बिल्लियों की देख चूहों से मोहब्बत ॥

अहमक़ों ने शेर के हाथों में अपने,

भेड़ ,बकरों ,हिरनों की दे दी हिफाज़त ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *