बज़्म में मस्जिद में या फिर मैक़दा आया ॥
दोस्तों को साथ ले या अलहदा आया ॥
जाने क्यों लेकिन हमेशा वो ख़ुशी में भी ,
साफ़ नमदीदा बड़ा ही ग़मज़दा आया ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *