धुर-धधकती गर्मियों में बर्फ़ के टुकड़े सी वो ॥

कड़कड़ाती सर्दियों में ऊन के कपड़े सी वो ॥

पहले साँसों की तरह आती थी जाती थी मगर ,

अब नहीं मिलती है ढूँढे कुम्भ के बिछड़े सी वो ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *