बना दे रह्मदिल को भी बड़ा जल्लाद सा लोगों ॥

बदल दे ज़िन्दगी सारी ज़रा सा हादसा लोगों ॥

लतीफ़ों की तरह लगता है बेशक़ वो अगर सुनिए ,

हक़ीक़त में है वो लबरेज़े-ग़म रूदाद* सा लोगों ॥

उन्हे वह देखते ही रूह तक जल-भुन के आता है ,

बहुत झुक-झुक के इस्तक़बाल* करने , शाद सा लोगों ॥

जनाज़े में तुम आए हो अदू के तो भी तो रस्मन ,

करो चेहरे को ग़मगीं , मत रखो दिलशाद सा लोगों ॥

न जाने क्यूँ मगर ये आजकल महसूस होता है ,

वतन मेरा अभी पूरा नहीं आज़ाद सा लोगों ?

वो अंदर नेस्तोनाबूद , शर्हा-शर्हा , रंजीदा ,

दिखे बाहर से *सालिम , शादमाँ , आबाद सा लोगों ।।

(*लबरेज़े-ग़म रूदाद=दुखपूर्ण कहानी *अदू=शत्रु  *इस्तक़बाल=स्वागत *शाद=प्रसन्न ,*सालिम=अखण्डित  )

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *