दिल के बाशिंदों से मुँह मोड़ आये ।।

जाने किस-किस के दिल को तोड़ आये ?

जुड़ के रहने का जिनसे वादा था ,

उनसे हर एक रिश्ता तोड़ आये ।।

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *